Madhuhan


Price : ₹1.00 /pcs

Color :

2 pcs Available
Add To Cart

शिथिल पड़े पेनक्रियाज को दुबारा सक्रिय कर प्राकृतिक रूप से इंसुलिन बनाकर स्त्राव करता है। मधुहन के सेवन से डायबिटीज प्राकृतिक रूप से नियंत्रित रहती है अर्थात् प्राकृतिक सीमा से घटने अथवा बढ़ने की संभावना नहीं रहती। मधुहन ताउम्र नियमित लेने की आवश्यकता नहीं होती सिर्फ जरूरत पड़ने पर ले सकते हैं। क्योंकि पेनक्रियाज दुवारा सक्रिय हो जाता है। मधुहन लेने से पेनक्रियाज के साथ - साथ किडनी हार्ट लीवर सही तरह से कार्यरत हो जाते हैं।

Specification

(1). मधुनाशनी - मधुमेह , शक्ररा, डयबिटीज को नियंत्रित कर पैन्क्रियाज़ (अग्नाशय) को सक्रीय रखता है /

(2). कालीजीरी - खून से शक्ररा (डायबिटीज) की मात्रा को नियंत्रित कर खून साफ़ करता है /

(3). जामुनबीज - रक्तनत शक्ररा (डायबिटीज), लीवर , स्वादुपिंड को सक्रिय रखने में उपयोगी /

(4). अर्जुन - खून में शक्ररा की मात्रा होने से घमनियों (रक्त कोशिकाओं) हृदय में हुये नुकसान से हृदय एवं घमनियों सुरक्षित कर बाल वरदक करता है /

(5). चीरायता - रक्त - शोधक, शक्ररा नियंत्रण लीवर दोष स्वादु पिंडु दोष में उपयोगी /

(6). रसोंत - शोथ नाशक, रक्त शोधक स्वेदल /

(7). दारों हल्दी - रोग प्रतिरोधक स्फूर्तिदायक  लेवरदोष शोथहर यकृत शोथ /(8). गुडुची - शरीर की रोग प्रतिरोधक छमता बढ़ाता है लेवरदोष ज्वरहर /


Related Products